बाल मजदूरी या बाल श्रम पर निबन्ध (भाषण नारे स्लोगन पोएम) in Hindi: Essay on Child Labour Practice pdf

क्या आप बाल श्रम या बाल मजदूरी के बारे में जानना चाहते हैं? क्या आप बाल श्रम के खिलाफ बने क़ानून के बारे में जानना चाहते हैं?
क्या आप बाल श्रम पर निबंध लिखना चाहते हैं?
अगर हाँ, तो आइए जानते हें की बाल श्रम क्या है और इसे रोकने के उपाय क्या है?

यहाँ आज हम आप को बताएँगे की बाल श्रम क्या है, बाल श्रम की समाज पर प्रभाव, और बाल श्रम को रोकने के उपाय क्या हैं|

साथ में हुमए भी जानेंगे की बाल श्रम के लिए सरकारी व्यवस्था क्या है, और जानेंगे चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर क्या है|

निचे हमने बाल श्रम पर एक छोटी सी निबंध पेश की है, जिसे आप बच्चों को स्कूल में दिए जाते बाल श्रम या बाल मजदूरी पर निबंध के तौर पर सीधा सीधा लिख सकते हैं|

निचे निबंध पर हमने बाल श्रम की कुरीति को भरपुर बताया है जो की हमारे समाज को खोखला कर रहा है|

विषय सूचि

बाल श्रम पर निबंध: Essay on Child Labour in Hindi:

बाल मजदूरी या बाल श्रम बच्चों के द्वारा अपने बाल्य काल में किया गया श्रम या काम है जिसके बदले उन्हें मजदूरी दिया जाता है | बाल मजदूरी भारत समेत हर देश में गैर कानूनी है| बाल मजदूरी हमारे समाज के संग हमारी देश की भविष्य केलिए एक कलंक है|

बाल मजदूरी एक अभिशाप है जो अपना जाल पूरा देश में इस तरह से बिछा दिया है की प्रशासन की लाख कोशिश के बावजूद ये अपना तांडव मचाने में सफल हो रहा है|

बाल मजदूरी हमारे समाज के लिए एक कलंक बन गया है| आइए जानते हैं की बाल मजदूरी क्या है और इसको रोकने के उपाय के बारे में|

                                                                           बाल श्रम पर निबन्ध

बाल मजदूरी या बाल श्रम क्या है? What is Child Labour?

किसी भी बच्चे से उसके या उसकी बाल्यकाल के दौरान पैसों या अन्य किसी लोभ के बदले करवाया गया किसी भी प्रकार के कार्य को बाल मजदूरी या बाल श्रम कहा जाता है| इस तरह के मजदूरी पर ज्यादातर पैसों या जरूरतों के बदले काम किया जाता है|

बाल श्रम पूरी तरह गैर कानूनी है| इस तरह की मजदूरी को समाज के हर वर्ग द्वारा निंदित भी किया जाता है| लेकिन इसकी ज्यादातर अभ्यास हम समाज वाले ही करते हैं|

हम बाल श्रम उन कार्यों को नाम दे सकते हैं जो की कोई बच्चे को अपने बाल्यकाल से बंचित कर उन्हें मजबूरी में काम करने की और ढकेले| बाल श्रम गैर कानूनी है|
बच्चों को अपने परिवार से दूर रख उन्हें गुलामों की तरह पेश आना को भी बाल अत्याचार कहा जा सकता है|

यह भी पढ़ें ››  [NEW] गणतंत्र दिवस पर निबंध भाषण in Hindi PDF: Happy Republic Day Essay 2019

बाल श्रम या बाल मजदूरी के कारण क्या है? What are The Main Causes of Child Labour In India?

आज बाल श्रम की कुरीति पुरे देश में फ़ैल चुकी है| हमारे समाज के लिए बाल श्रम एक अभिशाप है| सरकार की कड़े से कड़े नियमों के बावजूद ये गन्दी आदत समाज से कभी छुटी ही नहीं| ये आज भी हमारे समाज के कई इलाकों में निर्दयी से अंजाम दिया जा रहा है|
बाल मजदूरी के कई कारण हैं| आइए जानते हैं की बाल मजदूरी के मुख्य कारण क्या क्या है?

        1.गरीबी के कारण बढती बाल मजदूरी:

भारत देश की ज्यादातर आबादी गरीबी से पीड़ित हैं| कुछ परिवारों में भर पेट खाना एक सपना सा है| गरीबी में इन पीडीतों ने कई बार अपनों को खोने के गम से भी अवगत हो चुके हैं| बस इसी गरीबी से थक कर कई परिवार के बच्चे अपने बाल्यकाल की त्याग कर मजदूरी के लिए निकल पड़ते हैं| ये निर्णय उनका बस अपने परिवार के पेट पालने के उद्देश्य से ली जाती है| लेकिन कभी कभी ली गई इस तरह की निर्णय बच्चों के शारीरिक और मानसिक अवस्था को झकझोर देती है|

       2.किफायती स्कूल और पढाई की अन्य श्रोत के कमी भी बाल श्रम को उत्पन्न करती है:

हमारे देश की आजादी के इतने साल बाद भी कुछ इलाके ऐसे हैं जहां के बच्चे आज तक शिक्षा जैसी मौलिक अधिकार से बंचीत हैं| देश किअजादिके इतने साल बाद भी  हमारे देश में आज भी ऐसी हज़ारों गाँव हैं जहाँ पढाई की कोई ढंग की व्यवस्था नहीं है| और अगर है भी तो कोशों दूर| इस तरह की प्रशासनिक ढीलापन भी बाल श्रम के लिए जिम्मेदार हैं| और इन सबसे अगर कोई सबसे ज्यादा पीड़ित है तो वह है गरीब परिवार जो अपने बच्चों को पढ़ाना एक सपना के तरह देखते हैं|

जी हाँ ! कभी कभी गरीब बच्चों की पढाई के लिए उनके गुज़ारे को मद्दे रख पढाई के लिए कोई किफायती स्कूल की कमी बच्चों को अनपढ़ और बेबस छोड़ जाती है| बस इसी बेबसी और अनपढ़ रहना उन्हें मानसिक रूप से कई बार छू जाती है| बच्चे बिना पढाई के जिंदगी जीने के लिए मजबूर हो जाते हैं| और कभी कभी इस तरह की मजबूरियाँ उन्हें बाल मजदूरी की खाई में ढकेल देती है, जिससे आज तक किसी का भी भला नहीं हुआ है और ना ही कभी होगा|

       3.बाल श्रम को ‘रीति’ का नाम देना भी बाल मजदूरी को अंजाम देता है:

चौंकाने वाला मगर एक कड़वा सच हमारे समाज का ये भी है की कई परिवारों में बाल श्रम को परम्परा या रीति का नाम दे इसको बड़ी ही आसानी से अंजाम दिया जाता है|

कई परिवार का यह मानना है की उनके नसीब में एक अच्छी जिंदगी कभी लिखी ही नहीं गई और अर्सों से चली आती मजदूरी की परम्परा ही उनका कमाई और जीवन ब्यतीत का एक मात्र श्रोत है|

कुछ परिवारों का ये भी मानना है की बाल्यकाल से श्रम करना या काम करना बच्चे की आने वाली जिंदगी में उसे और ज्यादा मेहनती और दुनियादार बना देगा| उनका ये मानना है की बाल मजदूरी उनके निजी विकास को जन्म देती है| जो की आगे जिंदगी जीने में आसान होगा|

       4. लड़का और लड़की में भेदभाव बाल श्रम का एक अन्य श्रोत है:

हम समाज वाले न जाने ये क्यूँ अपने जहन में बिठा दिए हैं की लडकियां लड़कों के मुकाबले कमजोर हैं (पढ़िए लड़का लड़की एक समान पर निबंध) और उनकी कोई समानता नहीं है| आज भी हमारे समाज में हमें ऐसे कई उदाहरण देखने को मिलेंगे जहाँ लड़कियों को पढाई से बंचीत रखा जाता है| और ये अंधी गली धीरे धीरे बाल श्रम की और जा के ही रुकता है जिसके बाद आता है बेवकूफी और दक्क्यानुसी सोच की मैदान जहां इंसानियत का पौधा की आश करना भी बेवकूफी होगी|

लड़कियों को लड़कों के मुकाबले कमजोर मानना उन्हें स्कूल और पढ़ाई से बंचित करती है और श्रमिक परिवारों में इन बच्चियों को अपने माता पिता के साथ मजदूरी करते पाया जाता है|

यह भी पढ़ें ››  संदीप माहेश्वरी की जीवनी, ( Sandeep Maheshwari Life History, biography, Essay In Hindi)

हमें लड़का लड़की में कोई अंतर नहीं करना चाहिए| (पढ़िए लड़का लड़की एक समान और बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर निबंध) इस अभ्यास से लड़कियों द्वारा बाल श्रम की संख्या कुछ हद्द तक घटाया जा सकता है|

बाल श्रम को रोकने के उपाय या बाल श्रम के समाधान: How to STOP Child Labour Practice?

बाल मजदूरी हमारी समाज के लिए एक अभीशाप है जो की हमारे समाज को कभी अन्याय मुक्त बनने नहीं देगा| आज अगर हम अपने चारों तरफ देखें, तो हमें ऐसे कई उदाहरण मिलेंगे जहां हमारे ही समाज के बच्चे अपने बाल्यकाल और बचपन को त्याग मजदूरी कर रहे हैं| मजदूरी दो वक़्त की रोटी के कारण| न जाने ये दिल दहलाने वाले दृश्य बाल श्रम को बढ़ावा देने वालों को कैसे हजम हो जाती है|
हमें बाल श्रम या बाल मजदूरी को रोकने के बारे में ज्यादा से ज्यादा चर्चा करना चाहिए| हमें लोगों को बाल श्रम के क़ानून के बारे में बताना चाहिए|
आइए जानते हैं की बाल श्रम को कैसे रोकें और बाल श्रम समस्या का समाधान क्या है?

बाल मजदूरी रोकने के लिए हमें अपनी खुद की सोच को बदलना होगा:

समाज के सोचको बदलने से पहले हमें अपने आप की सोच को बदलना होगा| हमें बाल मजदूरी पर अंत लाने के लिए ये सुनिश्चित करना होगा की सबसे पहले हम खुद अपने घर या दफ्तर में कोई भी नाबालिक या नाबालिका के उम्र की बच्चे को काम पे न रखें| हमें ये बात याद रखना होगा की बाल्यकाल की कच्चे उम्र के बच्चों को काम पे रख कर उन्हें उसके बदले चन्द पैसे या कुछ खाना दे कर उन पर कोई एहसान नहीं कर रहे हैं,  बल्कि हम उस बच्चे के सुनहरे भविष्य के साथ खेल रहे हैं| हमें ये सोच सबसे पहले अपने आप में लाना होगा|

हमें एक सचेतित ग्राहक का किरदार निभाना पड़ेगा:

कई बार हम बाज़ार जा कर अपने जरुरत की सामान खरीद लेते हैं बिना ये जाने की उस सामान के बनावट के पीछे कोई बाल श्रम की अभ्यास है या नहीं| हो सकता है ये सोच आपको थोडा अयोग्य लगे लेकिन इससे हमारी समाज में एक बड़ी बदलाव लाया जा सकता है|

क्यूँ न आज से एक आदत डाल दें की जब भी हम कोई सामान की खरीद करते हैं तो उसके बनाई हुई तकनीक के बारे में अपने दुकानदार से पूछें| ज्यादातर दूकान दारों को शायद ये सवाल का जवाब पता न हो क्यूं कि कई बार कुछ चीजों की सप्लाई इतनी हाथों से हो के आती है की ये सब का अनुमान लगाना भी मुस्किल हो| लेकिन हम अपने तरफ से एक कदम तो उठा सकते हैं| हम ये पुछ के समाज में एक सचेतन की माहौल तो पैदा कर सकते हैं| और बाल श्रम की बनाई हुई कोई चीज़ की इस्तेमाल को ‘ना’ कहें|

हमें ये भी ठान लेना होगा की बाल श्रम को अंजाम देते किसी दुकांन से हम कोई चीज भी न खरीदें|

बाल मजदूर करते बच्चों के परिवार वालों को इसके अंजाम से अवगत करायें:

अगर हम अपने आस पास कहीं बाल श्रम को पायें तो सबसे पहले हमें उस बच्चे की परिवार वालों से बात करनी चाहिए| उनके हालत को समझ के उन्हें अपने बच्चे की सुनहरे भविष्य के बारे में बताना चाहिए| उन्हें अपने बच्चे की भविष्य के बारे में अवगत कराना चाहिए| उन्हें बाल श्रम के नुक्सान और कानूनी जुर्म के बारे में बताना चाहिए|

बाल श्रम के खिलाफ कानूनी सिकायत दर्ज करनी चाहिए:

आज हमारे देश में बाल मजदूरी से लढने के लिए बाल श्रम के क़ानून है| अगर हमें बाल श्रम की कोई मामला नज़र में आए तो हमें तुरंत अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन या (N.G.O.) के पास जा कर अपनी शिकायत दर्ज करवानी चाहिए| हमें बाल श्रम को पनाह देने वाले पत्थर दिलों के खिलाफ अपनी आवाज़ बुलंद करनी चाहिए|

हम बाल श्रम के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के लिए अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन को 100 डायल कर भी कर सकते हैं, या फिर हम खुद जा कर भी|

यह भी पढ़ें ››  कन्या भ्रूण हत्या पर निबंध भाषण नारे स्लोगन (In Hindi) Pdf

हम बाल श्रम के खिलाफ अपना शिकायात दर्ज करने के लिए सरकार के द्वारा शुरू की गई टेलीफोन सेवा नंबर 1098 डायल कर भी कर सकते  हैं|

बाल श्रम के लिए चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर

सरकार द्वारा बाल श्रम को मात देने के लिए कई कड़े नियमों को कार्य में लाया गया है| कड़े नियमों के साथ सरकार ने बाल्श्रम्में भागीदार लोगों को कड़े दंड के लिए जनता से मदद मांगी है| सरकार ने बाल श्रम के खिलाफ अभियोग के लिए एक अलग सी हेल्पलाइन नंबर बनाई है जिसे चाइल्ड हेल्प लाइन नंबर कहा जाता है| ये 1098 सेवा है|

जी हाँ, अब हम सब अपने आस पास या कहीं भी बाल श्रम को अंजाम देते देख सरकार के द्वारा शुरू की गई 1098 नंबर पर कॉल कर सकते हैं|

1098 चाइल्ड हेल्पलाइन नामक की सेवा सरकार द्वार बालश्रम के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने के लिए शुरू की गयी है|

विश्व बाल श्रम निरोध दिवस कब है? When is World Day Against Child Labour Celebrated? 

बाल्य काल हर इंसान की जिंदगी की गठन का मुख्य काल माना जाता है| कहते हैं, की एक इंसान की बाल्यकाल की परवरिश और अनुभूति ही उसके आगे की जिंदगी को दर्शाता है| बाल श्रम एक कलंक है जो ऐसी बाल्यकाल को दुख:दाई कर जाती है|

इसी बाल्य काल में श्रम या मजदूरी करने या करवाने के खिलाफ पुरे विश्व में 12 जून को विश्व बाल श्रम निषेध दिवस मनाया जाता है|

 बाल मजदूरी या बाल श्रम क़ानून: Laws against Child Labour Practice In India:

हमारे देश में बाल श्रम की बुरी आदत दिन भर दिन बढती जा रही है| सरकारी और बेसरकारी (N.G.O.) संस्थाओं के लाख प्रयासों के बावजूद बाल मजदूरी की अभ्यास में कोई कमी दिखाई नहीं दे रही है|

सरकार ने बाल श्रम को पूरी तरह निषेध करने के लिए कुछ कड़े नियमों का एलान भी किया है| आइए जानते हैं बाल श्रम के क़ानून के बारे में:

           1. The Factory Act, 1948:-

फैक्ट्री एक्ट के अंतर्गत 14 साल की उम्र से निचे का कोई भी बच्चे को किसी भी फैक्ट्री में किसी भी तरह का काम करना निषेध है| इस नियम के अंतर्गत 15-18 वर्ष की आयु के बच्चे के किसी भी फैक्ट्री में काम करने पर कई तरह के पाबंदियां लगाई गयी है जैसे की कौन, किसी तरह के बच्चे और कितने देर तक काम करने की सीमा जैसे पाबंदियां

         2. The Mines Act, 1952:-

माइंस एक्ट के अंतर्गत 18 साल की उम्र से निचे का कोई भी बच्चे को किसी भी माइन में किसी भी तरह का काम करना निषेध है| माइंस की ख़तरा को मद्दे नज़र रखते सरकार ने इस कड़े नियम को लागू करने का प्रस्ताव किया था|

         3. The Child Labour (Prohibition and regulation) act 1986:-

सरकार ने बच्चों के लिए ख़तरा शाबित कुछ कार्यों की एक  सूची तैयार करी| इस नियम के अनुसार 14 साल की उम्र से निचे की बच्चों को सूची में स्थान पायी हुई किसी भी कार्य करने की निषेध है| ये सूची में 2006 और फिर 2008 को पुन: विचार किया गया था और विशेष बदलाव को स्थानित किया गया था|

          4. The Juvenile Justice (Care and Protection) of Children Act of 2000:-

इस क़ानून के अंतर्गत किसी भी बच्चे को बाल श्रम करने पर उकसाना या मजबूर करना या बाल मजदूरी करवाना कानूनी जुर्म है| इस क़ानून के अंतर्गत बाल मजदूरी करवाने वालों के लिए कठोर दंड है|

         5. The Right of Children to Free and Compulsory education Act, 2009:-

इस क़ानून के अंतर्गत 6-14 साल की उम्र के बच्चों के लिए मुफ्त की सिक्षा का व्यवस्था है| इस क़ानून के अन्दर हर प्राइवेट स्कूल पर 25% की सीट विकलांग बच्चों के लिए आरक्षित है|

बाल मजदूरी पर आलोचना या बहस? Debate on Child Labour Practice:

बाल मजदूरी आज भी एक बहस है जिसकी कई बार कई तरह के लोग फायदा उठाना चाहते हें|

हम लोग बच्चों के बाल्यकाल में उनसे करवाया गया किसी भी प्रकार की काम को बाल श्रम का नाम देते हें| लेकिन ये भी एक पक्ष है की बच्चों के द्वारा किया गया हर काम को बाल श्रम का नाम नहीं दिया जा सकता है| बच्चों की उन कार्यों पर भागीदारी जिन पर उनकी सेहत, पढाई, और उनकी निजी जिंदगी की विकास पर कोई बुरा असर न पड रहा हो, को बाल मजदूरी का नाम नहीं दिया जा सकता| इस तरह की कार्यों के अंतर्गत निचे दिए गए कार्यों की सूचि को हम उदाहरण के रूप में ले सकते हें:–

  • घर में अपने माता पिता के काम में हाथ बटाना को बाल मजदूरी नहीं कहा जा सकता है|
  • अपने पारिवारिक रोज़गार में घर वालों की मदद करना|
  • स्कूल या कॉलेज की पढाई से वक़्त निकाल कर कमाई का कोई श्रोत ढूंड कर अपने खर्चे चलाना बाल मजदूरी नहीं है|
  • खाली समय में अपने शौक या जरुरत के कारण बच्चों को पढ़ाना किसी भी रूप से बाल श्रम नहीं है|

इस तरह की काम बच्चों की निजी विकास में काफी बड़ा असर छोड़ता है और कई बार ये सब आदतें इंसान को जिम्मेदार भी बनाने में अहम् किरदार निभाते हें|

बाल श्रम पर कोई क़ानून फर्क नहीं लाएगा, जब तक हम अपने तरफ से कोई ठोस कदम न उठाएं| तो आइए आप और हम मिल के बाल श्रम के खिलाफ अपना आवाज़ बुलंद करें और अपने देश की सुनहरे भविष्य को सुरक्षित करने का एक मुहीम छेड़ें|

 

3 thoughts on “बाल मजदूरी या बाल श्रम पर निबन्ध (भाषण नारे स्लोगन पोएम) in Hindi: Essay on Child Labour Practice pdf”

  1. Hey there would you mind letting me know which hosting company you’re working with? I’ve loaded your blog in 3 completely different internet browsers and I must say this blog loads a lot faster then most. Can you recommend a good hosting provider at a honest price? Many thanks, I appreciate it!

    Reply
  2. I just like the valuable information you supply to
    your articles. I’ll bookmark your blog and take a look at again here frequently.
    I am rather certain I’ll be informed a lot of new stuff proper here!
    Good luck for the following!

    Reply

Leave a Comment